पंजाब

अमृतसर हादसे की जांच ए.डी.जी.पी. सहोता करेंगे -डी.जी.पी. अरोड़ा

दूसरे राज्यों के किसी भी विद्यार्थी की देशभक्ती पर उंगली उठाने का सवाल ही पैदा नहीं होता

चंडीगढ़ – राज्य के पुलिस प्रमुख श्री सुरेश अरोड़ा ने आज कहा कि अमृतसर रेल हादसे की अपराधिक जि़म्मेदारी तय करने के लिए ए.डी.जी.पी. (रेलवे) इकबाल प्रीत सिंह सहोता को जांच सौंपी गई है। आज यहाँ 59वें पुलिस यादगारी दिवस परेड के दौरान पत्रकारों के साथ बातचीत करते हुए डी.जी.पी. ने कहा कि किसी न किसी तरफ़ से तो लापरवाही हुई है और इसकी जि़म्मेदारी तय करने के लिए जांच के हुक्म दिए गए हैं। श्री अरोड़ा ने कहा कि यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण और दिल दहला देने वाली घटना है जिस कारण पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने जालंधर के डिविजऩल कमिशनर श्री बी. पुरूषार्थ को इसकी जांच करने के हुक्म दिए हैं जो चार हफ़्तों में जांच रिपोर्ट सौंपेंगे। उन्होंने कहा कि श्री सहोता निजी तौर पर जांच करेंगे जिससे इस घटना के लिए जि़म्मेदारी व्यक्तियों को कानून के कटघरे में खड़ा किये जाने को यकीनी बनाया जा सके।
एक अन्य सवाल के जवाब में डी.जी.पी. ने कहा कि पंजाब पुलिस द्वारा किसी भी विद्यार्थी ख़ासकर कश्मीरी विद्यार्थी की देशभक्ति पर उंगली उठाने का सवाल ही पैदा नहीं होता। उन्होंने कहा कि किसी भी विद्यार्थी की तरफ से मुल्क के किसी भी हिस्से में जाकर मानक शिक्षा हासिल करने को यकीनी बनाना हमारा नैतिक फजऱ् बनता है। इसके साथ ही श्री अरोड़ा ने कहा कि यदि कोई नागरिक कानून का उल्लंघन करता है तो उसके खि़लाफ़ कानून अपना रास्ता इख्तियार करेगा।
राज्य के पुलिस प्रमुख ने कहा कि उन्होंने जिलों के पुलिस मुखियों को पहले ही हिदायतें जारी करके कहा है कि शैक्षिक संस्थाओं में तालीम हासिल कर रहे विद्यार्थियों के साथ विस्तृत विचार-विमर्श करके भरोसा दिया जाये कि उनकी किसी भी तरह की मुश्किल में सहायता के लिए पुलिस उपस्थित है। श्री अरोड़ा ने कहा कि मुल्क के किसी भी हिस्से से आए विद्यार्थियों के साथ परायों जैसा व्यवहार करने का सवाल ही पैदा नहीं होता। उन्होंने बताया कि यदि कोई शिकायत है तो इसके हल के लिए ए.डी.जी.पी. (कम्युनिटी पुलिसिंग) श्री ईश्वर सिंह और आई.जी. वी. नीरजा को नोडल अफ़सर नियुक्त किया गया है। डी.जी.पी. ने कहा कि किसी किस्म की समस्या के लिए विद्यार्थी इन अधिकारियों के साथ संपर्क स्थापित कर सकता है।
एक अन्य सवाल के जवाब में डी.जी.पी. ने कहा कि नौजवानों को गुमराह करने के लिए शोशल मीडिया पर की जा रही भद्दी कोशिशों के प्रति सख्ती से निपटा जायेगा। उन्होंने कहा कि साल 1984 -1994 के काले दौर के दौरान भी ऐसी ही चालें चली गई थीं परन्तु नौजवानों को ऐसे यत्नों से दूर रहना चाहिए। श्री अरोड़ा ने कहा कि नौजवानों को इस रास्ते पर चलने की बजाय मुल्क ख़ासकर राज्य के सामाजिक और आर्थिक विकास के लिए खुलकर योगदान देना चाहिए। उन्होंने कहा कि पंजाब पुलिस के लिए यह गर्व की बात है कि साल 1981 से 2017 तक 2719 पुलिस अफसरों और कर्मचारियों ने मुल्क की एकता और अखंडता और अमन -शान्ति की रक्षा की ख़ातिर अपनी जानें न्यौछावर कर दीं। श्री अरोड़ा ने कहा कि इन शहीदों का अतुल्य बलिदान पुलिस अफसरों /मुलाजिमों की नई पीढ़ी को अपनी मातृ भूमि की ख़ातिर मर -मिटने के लिए हमेशा प्रेरित करती रहेगी।
डी.जी.पी. ने मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह द्वारा आतंकवाद के विरुद्ध लड़ते हुए शहीद होने वाले अफसरों की विशेष परिवार पैंशन बहाल करने के फ़ैसले की प्रशंसा की। उन्होंने बताया कि साल 2014 में पैंशन में लगे कट की बजाय परिवारों को लाल कार्ड की सुविधा सहित पूरी पैंशन मिलेगी। उन्होंने कहा कि पंजाब पुलिस अपने महान नायकों के प्रति हमेशा ऋणी रहेगी जिनके बहादुरी भरे कारनामों ने पंजाब फोर्स की शान बढ़ाई।
इस दौरान डी.जी.पी. ने शहीदों को श्रद्धा के फूल भेंट किये।
इस अवसर पर डी.जी.पी. श्री एम.के. तिवाड़ी, डी.जी.पी. (सेवा-मुक्त) श्री एम.एस. भुल्लर, ए.डी.जी.पीज़ श्री गौरव यादव, श्री कुलदीप सिंह, श्रीमती शशि प्रभा द्वेदी, श्री संजीव कालड़ा, आई.जी. जसकरन सिंह, श्री आर.पी.एस. बराड़, श्री अमर सिंह चाहल, श्री नौनेहाल सिंह और प्रमोद बान, पुलिस कमिशनर श्री गुरप्रीत सिंह भुल्लर, डी.आई.जी. श्री एस.के. कालिया और श्री पवन उप्पल, डिप्टी कमिशनर जालंधर श्री वरिन्दर कुमार शर्मा, कमांडैंट श्री राजिन्दर सिंह और श्री राज पाल सिंह संधू, एस.एस.पी. श्री नवजोत सिंह माहल और अन्य भी उपस्थित थे।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

five × four =

Most Popular

To Top