कांगड़ा

खेलों का विद्यार्थी जीवन में विशेष महत्वः किशन कपूर

कहा…प्रदेश सरकार दे रही खेलों के ढांचागत विकास पर बल

धर्मशाला,  खाद्य, नागरिक आपूर्ति व उपभोक्ता मामले, मंत्री किशन कपूर ने कहा कि खेलों का विद्यार्थी जीवन में बहुत महत्व है, जिससे जहां बच्चों का शारीरिक, बौद्धिक और मानसिक विकास होता है, वहीं बच्चों में अनुशासन, प्रतिस्पर्धा, परिश्रम और देशभक्ति की भावना उत्पन्न होती है। उन्होंने कहा कि प्रदेश की खेल एवं युवा गतिविधियों को बुलन्दियों पर ले जाने के लिए सरकार के लिए वित्त वर्ष में 4542 करोड़ रूपयेे का प्रावधान रखा गया है। वे आज जिला कांगड़ा एथलेटिक्स एसोसिएशन द्वारा आयोजित एक दिवसीय 400 मीटर राष्ट्रीय दौड़ के समापन अवसर पर बोल रहे थे। कपूर ने कहा कि खेलों में भाग लेने से युवाओं को सामाजिक कुरीतियों जैसे मादक द्रव्यों के व्यसन, निराशा तथा अकेलेपन की आदत से दूर रखा जा सकता है तथा उनके आत्मसम्मान व सहयोग भावना को बढ़ाया जा सकता है । प्रदेश सरकार खेल स्पर्धाओं में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले प्रतिभागियों को नकद पुरस्कारों के साथ-साथ सरकारी नौकरियों में भी विशेष आरक्षण प्रदान कर रही है।
इस एक दिवसीय दौड़ में 400 मीटर की अंडर 14, 16, 18 तथा अंडर 20 वर्ग के छात्र एवं छात्राओं ने भाग लिया।
कपूर ने कहा कि प्रदेश सरकार खेल विकास योजना के अंतर्गत प्रदेश के हर विधानसभा क्षेत्र में प्रति वर्ष 10 लाख रुपये की लागत से खेल मैदान का निर्माण किया जा रहा है ताकि आधारभूत स्तर पर खेलों का प्रोत्साहन दिया जा सके। उन्होंने कहा कि प्रदेश के खिलाड़ी विभिन्न खेलों में अपने अच्छे प्रदर्शन से प्रदेश व देश का नाम रोशन कर रहे हैं, यह सभी के लिए गौरव की बात है। सरकार खिलाड़ियों को सभी सुविधाएं मुहैया करवाने के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि विद्यार्थी काल में अनुशासन, परिश्रम की आदत बनानी चाहिये ताकि इसका लम्बे समय तक लाभ मिल सके। उन्होंने खिलाड़ियों से आह्वान किया कि वे खेल को खेल की भावना से खेलें। उन्होंने कहा कि विभिन्न खेल जहां व्यक्तिगत विकास में महत्वपूर्ण हैं वहीं इनके माध्यम से ऊर्जा का समुचित उपयोग भी संभव होगा।
कपूर ने खिलाड़ियों से आह्वान किया कि वे प्रतिस्पर्धा के दौर में कड़ी मेहनत कर हर चुनौती का सामना करने के लिए अपने आपको तैयार रखें। उन्होंने कहा कि आज के दौर में वही आगे बढ़ पाएगा, जिसमें प्रतियोगिता की भावना होगी एवं हर कला में परम्परागत होगा। उन्होंने कहा कि एशियन गेम्ज 2018 में भारत का बहुत सराहनीय प्रदर्शन रहा है जिसमें 15 गोल्ड, 24 सिल्वर व 30 बरोंज पदकों के साथ 69 पदक तालिका में एक अच्छी शुरूआत है।
खाद्य आपूर्ति मंत्री नेे बच्चों के उज्ज्वल भविष्य की कामना करते हुए उनसे नशे की बुराई से दूर रहने तथा अन्य बच्चों को भी इस बुराई से दूर रहने के लिए प्रेरित करने को कहा। उन्होंने कहा कि भारत विश्व के उन चुनिंदा देशों में शामिल है जहां की अधिकांश जनसंख्या युवा है। हमारे युवा भविष्य के निर्माण एवं भारत को विश्व गुरू बनाने के सपने को साकार करेंगे। इसके लिए आवश्यक है कि युवा अपनी असीमित ऊर्जा को सकारात्मक दिशा प्रदान करें। इस दौरान 400 मीटर की विभिन्न आयु वर्ग में विजेताओं में से महाराष्ट्रा के दीपक सिंह, प्रथम, उतरप्रदेश श्रीकांत मालिक ने द्वितीय तथा झारखंड के रवि कुमार सिंह तीसरे स्थान पर, अंडर 20 आयु वर्ग में विक्रांत पंचल प्रथम, राहुल कदम द्वितीय तथा मुफिद खॉन तृतीय, अंडर -18 आयुवर्ग में आदेश प्रथम, अविनाश ने द्वितीय तथा तृतीय स्वरूप खॉन, अंडर-16 राम चंद्रा सागा प्रथम, अरविंद आकाश ने द्वितीय तथा हरदीप कुमार तृतीय स्थान पर रहे। इसी तरह 400 मीटर की छात्राओं की दौड़ में नीशू कुमारी प्रथम, कृतिका शर्मा द्वितीय तथा अनुराधा तृतीय, अंजना प्रथम, पूजा, द्वितीय तथा अनीता ठाकुर तृतीय तथा फलोरेंस बारला प्रथम, पायल वोहरा द्वितीय तथा ज्योति ने तृतीय स्थान हासिल किया। इस मौके पर मुख्यातिथि ने विजेताओं को मेडल पहनाकर सम्मानित किया। इस अवसर पर खाद्य आपूर्ति मंत्री ने खेल के आयोजन के लिए आयोजकों कोे बधाई दी।
इस अवसर पर जिला कांगड़ा के एथलैटिक्स संघ के अध्यक्ष विक्रम चौधरी ने मुख्यातिथि का स्वागत किया तथा ऐसोसिएशन की विभिन्न गतिविधियों की जानकारी दी। इस अवसर पर संयुक्त निदेशक अर्जुन आवार्ड सुमन रावत मेहता, मडंलाध्यक्ष रमेश अटवाल, पार्षद वीरू बालिया वरिष्ठ उपाध्यक्ष पीएस गुलेरिया, महासचिव सीपी मेहता, कोषाध्यक्ष सुरेश कंवर, भूपेन्द्र ठाकुर, जिला युवा सेवा एवं खेल अधिकारी संजय शर्मा, रमेश जरयाल, अरविंद, ओएसडी सुनील कुमार सहित अक्षय कुमार तथा विभिन्न राज्यों से आये छात्र व छात्राएं मौजूद रहे।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

eighteen + 8 =

Most Popular

To Top