ऊना

पंचायती राज मंत्री ने चलोला में रखी 91 लाख से बनने वाली पीएचसी की आधारशिला

पीएचसी भवन निर्मित होने से आधा दर्जन पंचायतों को मिलेगी बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं
ऊना,  ग्रामीण विकास, पंचायती राज, पशु एवं मत्स्य पालन मंत्री वीरेंद्र कंवर ने आज कुटलैहड विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत गांव चलोला में लगभग 91 लाख रूपये की लागत से निर्मित होने वाले प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के भवन की आधारशिला रखी। एक वर्ष के भीतर निर्मित होने वाले इस पीएचसी भवन से इस क्षेत्र की लगभग आधा दर्जन पंचायतों को बेहतर स्वास्थ्य सेवाओं की सुविधा सुनिश्चित होगी। इस मौके पर उन्होने जन समस्याएं भी सुनीं। इस मौके पर एक जनसभा को संबोधित करते हुए ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज मंत्री वीरेंद्र कंवर ने कहा कि केंद्र व प्रदेश की सरकारें आम जन को स्वास्थ्य का सुरक्षा कवच एवं बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करने के लिए कृत संकल्प है तथा इस दिशा में लगातार जनहित में निर्णय लिए जा रहे हैं। उन्होने कहा कि आयुष्मान भारत योजना के अंतर्गत केंद्र की मोदी सरकार ने देश के गरीब तबके 10 करोड़ परिवारों को 50 हजार से लेकर पांच लाख रूपये तक का स्वास्थ्य सुरक्षा कवच की सुविधा उपलब्ध करवाई है। उन्होने कहा कि ऐतिहासिक निर्णय से देश की लगभग 50 करोड़ आबादी लाभान्वित होगी। उन्होने कहा कि धन के अभाव में अब किसी गरीब परिवार को बीमारी के ईलाज के लिए जमीन व गहने गिरवीं रखने की नौबत नहीं आएगी। उन्होने कहा कि स्वास्थ्य नेटवर्क को मजबूत करने के लिए देश भर में जगह-जगह अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्था (एम्स) स्थापित किए जा रहे हैं तथा हिमाचल प्रदेश के बिलासुपर में लगभग साढ़े 13 सौ करोड़ रूपये से एम्स स्थापित किया जा रहा है।
वीरेंद्र कंवर ने कहा कि केंद्र सरकार ने हिमाचल के लिए नेरचौक मंडी में ईएसआई मेडिकल कॉलेज व अस्पताल की स्थापना के बाद नाहन, हमीरपुर तथा चंबा में नए मेडिकल कॉलेज शुरू किए हैं तो वहीं ऊना के लिए पीजीआई चंडीगढ़ का सैटेलाईट केंद्र स्वीकृत हुआ है तथा इस प्रतिष्ठित केंद्र की ओपीडी भी शुरू हो गई है। इसके अलावा राष्ट्रीय डायलिसिस कार्यक्रम के अंतर्गत ऊना अस्पताल में डायलिसिस की सुविधा शुरू कर दी गई है तथा इस तरह की सुविधा प्रदेश के सात अस्पतालों में आंरभ हो चुकी है। उन्होने कहा कि ऊना के लिए 20 करोड़ रूपये का मातृ-शिशु अस्पताल भी स्वीकृत हुआ है। इसके अलावा प्रदेश में वर्तमान सरकार ने डॉक्टरों व पैरामेडिकल स्टाफ के सैंकड़ों पद स्वीकृत कर भर्ती प्रक्रिया को शुरू कर दिया है।
उन्होने कहा कि प्रदेश सरकार ने बजट में 30 नई योजनाओं को शुरू करने का प्रावधान किया है। मुख्य मंत्री आशीर्वाद योजना के अंतर्गत अस्पताल में जन्म लेने वाले सभी नवजात शिशुओं को 15सौ रूपये की नवआंगन्तुक किट का प्रावधान किया है तथा इस योजना के लिए बजट में 15 करोड़ रूपये का प्रावधान किया है। उन्होने बताया कि नि:शुल्क दवा नीति के तहत अब प्रदेश में नि:शुल्क दवाओं की संख्या को 66 से बढ़ाकर 330 कर दिया है तथा बजट में 50 करोड़ रूपये का प्रावधान किया है। इसके अलावा स्वास्थ्य सहभागिता योजना के तहत चुने हुए ग्रामीण क्षेत्र में एलोपैथिक अस्पताल स्थापित करने के लिए इच्छुक व्यक्ति या चिकित्सक को सरकार एक करोड़ रूपये के निवेश पर 25 प्रतिशत अनुदान तथा तीन वर्षों तक पांच प्रतिशत ब्याज उपदान दिया जाएगा।
कांग्रेसी भाजपा सांसदों से हिसाब मांगने से पहले अपने सांसदों से भी मांगे हिसाब वीरेंद्र कंवर ने विपक्षी कांग्रेस पार्टी पर हमला बोलते हुए कहा कि कांग्रेस पार्टी के लोग भाजपा सांसदों से हिसाब मांगने से पहले अपने-अपने सांसदों से भी हिसाब मांगें कि उन्होने प्रदेश के विकास के लिए क्या योगदान दिया है। उन्होने कहा कि भाजपा के सांसद हिसाब देने के लिए तैयार बैठे हैं लेकिन कांग्रेसी सांसद भी अपना हिसाब देने के लिए तैयार रहें। उन्होने कहा कि वर्ष 2002 में वाजपेयी सरकार ने प्रदेश को एक बडा औद्योगिक पैकेज दिया था जिसकी बदौलत जहां बददी, बरोटीवाला, टाहलीवाल सहित प्रदेश के अनेक क्षेत्रों में सैंकडों उद्योग स्थापित हुए तो वहीं आज लगभग तीन लाख लोगों को इन औद्योगिक क्षेत्रों में रोजगार प्राप्त हो रहा है। उन्होने कांग्रेसी नेताओं से सवाल करते हुए कहा कि वे बताएं की वाजपेयी द्वारा वर्ष 2017 तक दिए गए औद्योगिक पैकेज की मियाद को किसने घटाकर वर्ष 2013 किया है। उन्होने कहा कि कांग्रेस के शासनकाल में प्रदेश के धन का सत्यानाश हुआ है तथा कांगे्रस न अपने कार्यकाल के दौरान प्रदेश को कंगाली की स्थिति में ला खडा किया है, जिसे आज प्रदेश का प्रत्येक व्यक्ति जानता है। उन्होने कहा प्रदेश के गरीब, पिछडे व अंतिम पायदान में बैठे व्यक्ति का उत्थान जय राम ठाकुर सरकार की प्राथमिकता में है तथा पहली कैबिनेट बैठक से ही इस दिशा में अहम निर्णय लिए जा रहे हैं।
13.45 करोड़ रूपये से होगा ऊना-टक्का-धमांदरी सडक़ का सुधार
उन्होने कहा कि 13.45 करोड़ रूपये की लागत से ऊना-टक्का-धमांदरी सडक़ को बेहतर बनाया जाएगा जिसके लिए सरकार ने राशि स्वीकृत कर दी है। इसके अलावा धमांदरी-आबादी अनुसूचित जाति बस्ती तथा कालीमाता मंदिर तक सडक़ निर्माण के लिए 30-30 लाख रूपये के प्राक्कलन को स्वीकृति प्रदान कर दी गई है। उन्होने कहा कि इस क्षेत्र में पुल व सडक़ निर्माण के लिए एक करोड़ 80 लाख रूपये भी स्वीकृत हो चुके हैं। उन्होने कहा कि पीएचसी बसाल के भवन निर्माण के लिए जमीन मिलते ही पैसा स्वीकृत करवा दिया जाएगा।
उन्होने पुराने हो चुके चलोला पंचायत भवन के विघटित होने के बाद 10 लाख रूपये की लागत से नया पंचायत भवन निर्मित किया जाएगा। साथ ही कहा कि पशु औषधालय के लिए जमीन मिलते ही इसके भवन निर्माण के लिए धनराशि स्वीकृत कर दी जाएगी। उन्होने तालाब के जीर्णोद्धार कार्य के लिए अधिकारियों को जल्द प्राक्कलन तैयार करने के भी निर्देश दिए। इसके अलावा प्राथमिक पाठशाला चलोला में अतिरिक्त कमरों के निर्माण के लिए 60 लाख रूपये स्वीकृत तथा सिंचाई टयूबवैल स्थापित करने के लिए जल्द डीपीआर बनाने के भी निर्देश दिए। इसके अतिरिक्त गांव में विभिन्न संपर्क रास्तों व सडक़ों के निर्माण कार्यों को भी जल्द पूरा किया जाएगा।
इस अवसर पर जिला परिषद् उपाध्यक्ष सोमदत्त, जिला पार्षद् राजकुमार, मंडल महामंत्री मास्टर तरसेम लाल, जिला भाजयुमो अध्यक्ष बलराम बबलू, उपाध्यक्ष मुनीश ठाकुर, प्रधान बडसाला सुरेश बांका, पूर्व जिला पार्षद् कृष्ण पाल शर्मा, सोमनाथ, महेंद्र सिंह, दाता राम, मनजीत राणा, अजय, एसडीएम विनय मोदी, सीएमओ डॉ0 रमन शर्मा, जिला स्वास्थ्य अधिकारी डॉ0 निखिल शर्मा सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी एवं अन्य गण्यमान्य लोग उपस्थित थे।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

twenty − 8 =

Most Popular

To Top