पंजाब

नागरिकता संशोधन एक्ट पंजाब में लागू नहीं करेंगे, इसके विरुद्ध डट कर लड़ेंगे -कैप्टन अमरिन्दर सिंह द्वारा ऐलान

समूह देश निवासियों को घातक कानून के विरुद्ध एकजुट होने का न्योता

लुधियाना – संविधान की प्रस्तावना बदलने के किये जा रहे यत्नों के लिए भारतीय जनता पार्टी पर बरसते हुुये पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने आज घातक नागरिकता संशोधन एक्ट (सी.ए.ए.) के द्वारा देश के धर्म निष्पक्ष ताने-बाने को नष्ट करने के लिए भाजपा की विभाजनकारी और घातक कोशिशों के विरुद्ध समूचे देश निवासियों को एकजुट होने का न्योता दिया है।रोष मार्च और धरने के दौरान पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी के नेताओं और वर्करों को संबोधन करते हुये कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने ऐलान किया कि उनकी सरकार इस एक्ट को पंजाब में लागू करने की हरगिज़ इजाज़त नहीं देगी और कांग्रेस पार्टी इसके विरुद्ध डट कर अपनी लड़ाई जारी रखेगी। इस मौके पर ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी के पंजाब मामलों के इंचार्ज आशा कुमारी, पंजाब कांग्रेस के प्रधान सुनील जाखड़ के अलावा संसद मैंबर परनीत कौर, कैबिनेट मंत्री मनप्रीत सिंह बादल, गुरप्रीत सिंह कांगड़, भारत भूषण आशु, साधु सिंह धर्मसोत, बलबीर सिंह सिद्धू और लुधियाना से संसद मैंबर रवनीत सिंह बिट्टू समेत बड़ी संख्या में पार्टी विधायक भी उपस्थित थे।मुख्यमंत्री ने चेतावनी देते हुये कहा कि भाजपा अपनी इन भद्दी चालों में कामयाब नहीं हो सकती और पंजाब समेत 16 राज्यों में इस घृणित एक्ट के खि़लाफ़ रोष प्रदर्शन हो रहे हैं।संविधान की प्रस्तावना पढ़ते हुये मुख्यमंत्री ने कहा कि यह हमारे भारत की नींव का मूल आधार है जिससे कोई भी छेड़छाड़ नहीं कर सकता। उन्होंने कहा कि समय-समय पर संविधान की धाराओं में संशोधन सिफऱ् भारत में ही नहीं की जाती बल्कि ऐसा बरताव दुनिया भर में घटता है परन्तु संविधान के बुनियादी ढांचे को बिगाडऩे को सहन नहीं किया जा सकता। उन्होंने कहा कि यहाँ तक कि संयुक्त राष्ट्र ने भी सी.ए.ए. को पक्षपाती कदम करार दिया है।उत्तर प्रदेश में कांग्रेस की राष्ट्रीय जनरल सचिव प्रियंका गांधी के साथ दुव्र्यवहार किये जाने का जि़क्र करते हुये कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने कहा कि वहां के मुख्यमंत्री योगी आदित्यानाथ की सूचना के बिना पुलिस ऐसा रवैया नहीं अपना सकती। उन्होंने योगी आदित्यानाथ को कहा, ‘ऐसे काम करते हुये आपको शर्म नहीं आती।’ उन्होंने चेतावनी दी कि कांग्रेस कभी भी इस घटना को भुलेगी नहीं और एक दिन लोगों का समय ज़रूर आऐगा।एम.आई.टी. के विद्यार्थियों द्वारा सी.ए.ए. के विरुद्ध प्रस्ताव पास किये जाने का जि़क्र करते हुये मुख्यमंत्री ने कहा कि इस कानून के दूरगामी निष्कर्षों संबंधी पूरा विश्व चिंता में डूबा हुआ है जबकि दिल्ली में बैठे सत्ता पक्ष ने अडिय़ल रवैया अपनाया हुआ है जो देश की आवाज़ सुनने से भी इन्कारी है। कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने कहा कि श्री गुरु नानक देव जी ने धर्मनिरपेक्षता का संदेश दिया और ‘न कोई हिंदु न कोई मुसलमान’ की शिक्षा के द्वारा समुची मानवता को परमात्मा की प्रजा बताया।मुख्यमंत्री ने कहा कि पंजाब के अर्थव्यवस्था की नगरी के तौर पर जाने जाते लुधियाना शहर में आज हुए इस रोष मार्च से देश भर में नागरिकता संशोधन एक्ट के विरुद्ध स्पष्ट संदेश जाऐगा।इसके बाद पत्रकारों के साथ अनौपचारिक बातचीत के दौरान कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने दोहराया कि उनकी सरकार भारत के धर्मनिरपेक्ष चरित्र को चोट पहुँचाने और संविधान की प्रस्तावना बदलने सम्बन्धी केंद्र सरकार की हर कोशिश का ज़ोरदार विरोध जारी रखेगी। यू.पी. पुलिस द्वारा प्रियंका गांधी के साथ दुव्र्यवहार करने के मुद्दे पर मुख्यमंत्री ने इस घटना को शर्मनाक बताया। मुख्यमंत्री ने कहा कि यह बहुत शर्म वाली बात है कि एक तरफ़ विश्व भर में श्री गुरु नानक देव जी का 550वां प्रकाश पर्व मनाया जा रहा है जबकि दूसरी तरफ़ गुरू साहिब जी की धर्म निरपेक्ष विचारधारा पर हमला किया जा रहा है।इससे पहले पार्टी के सीनियर नेता और वित्त मंत्री मनप्रीत बादल ने दक्षिणी अफ्रीका में महात्मा गांधी को रेल से उतार देने की घटना को याद करते हुए कहा कि इसने श्री गांधी को हिला कर रख दिया और उन्होंने गोरे अधिकारियों को चुनौती दी कि वह उनको अपने मुल्क से बाहर निकाल देंगे। मौजूदा स्थिति को उस घटना के साथ जोड़ते हुए कि यदि मोदी मुल्क के कुछ भारतियों को बाहर निकालने की कोशिश करेंगे तो कांग्रेस पार्टी मोदी को भारत से बाहर निकाल देगी। उन्होंने कहा कि बीते लोकसभा मतदान में भाजपा को सिफऱ् 39 प्रतिशत वोटें मिलीं हैं जबकि बाकी 61 प्रतिशत लोगों ने विरोधी पक्षों का समर्थन किया जिस कारण मोदी सरकार ऐसे काले कानूनों को लागू नहीं कर सकेगी।पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रधान सुनील जाखड़ ने भाजपा के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि दिल्ली में काले अंग्रेज़ बैठे हुए हैं जो वह एजेंडा लागू करने की कोशिश कर रहे हैं जिसको आज़ादी से पहले लागू करने के लिए गोरों को भी मुँह की खानी पड़ी थी। विद्यार्थियों के नेतृत्व में मुल्क भर में फैले सी.ए.ए. विरोधी प्रदर्शनों का जि़क्र करते हुए उन्होंने कहा कि लोगों ने नोटबन्दी और जी.एस.टी. लागू करने के मौके पर सहनशीलता दिखाई परन्तु उन्होंने अपना सारा सब्र नहीं गवाया। श्री जाखड़ ने एन.डी.ए. सरकार की धक्केशाही की सख्त निंदा करते हुए ताडऩा की कि केंद्र सरकार की इन कार्यवाहियों के बुरे प्रभाव से कोई भी नागरिक नहीं बचेगा। भाजपा लीडरशिप के ‘टुकड़े-टुकड़े गैंग’ के बयान पर चुटकी लेते हुए श्री जाखड़ ने कहा कि एन.डी.ए. ख़ुद ‘टुकड़े-टुकड़े’ सरकार है जो मुल्क को बाँटने पर तुली हुई है।लुधियाना से लोकसभा मैंबर रवनीत सिंह बिट्टू ने सी.ए.ए. को काला कानून बताया जो बहुत से राज्यों में लागू नहीं होगा क्योंकि 70 प्रतिशत मुख्यमंत्री अब कांग्रेस और अन्य विरोधी पार्टियों से हैं और यह तथ्य भाजपा के गिर रहे ग्राफ की तरफ भी स्पष्ट इशारा करते हैं।इससे पहले मुख्यमंत्री ने रोष मार्च में सम्मिलन किया जो दरेसी ग्राउंड से शुरू होकर माता रानी चौक में महात्मा गांधी के प्रतिमा के पास समाप्त हुआ।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

one × four =

Most Popular

To Top