पंजाब

कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने श्री गुरु नानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व सम्बन्धी समारोहों के लिए एस.जी.पी.सी. से सहायता प्राप्त करने के लिए मंत्रियों के समूह को कहा

ऐतिहासिक समारोह से सम्बन्धित सोने और चाँदी के यादगारी तमगे जारी
चंडीगढ़ – पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने श्री गुरु नानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व के लिए साझे मंच के लिए सूबा सरकार की मदद करने के लिए शिरोमणी गुरूद्वारा प्रबंधक कमेटी (एस.जी.पी.सी) तक पहुँच करने के लिए मंत्रियों के समूह (जी.ओ.एम.) को कहा है। प्रकाश पर्व को मनाने वाली कार्यकारी कमेटी की मीटिंग की अध्यक्षता करते हुए मुख्यमंत्री ने श्री गुरु नानक देव जी के प्यार, शान्ति, सद्भावना और भाईचारे के संदेश की तजऱ् पर इस महान समारोह को मनाने के लिए एस.जी.पी.सी और अन्य धार्मिक संगठनों की भागीदारी में उत्सुकता दिखाई है। मुख्यमंत्री ने इस ऐतिहासिक समारोह को असरदार ढंग से आयोजित करने के लिए खुले दिल से समर्थन, सहयोग और मार्ग दर्शन करने के लिए श्री अकाल तख़्त साहिब के जत्थेदार और एस.जी.पी.सी. के प्रधान को औपचारिक न्योता देने के लिए भी मंत्रियों के समूह को कहा है। गौरतलब है कि पर्यटन और सांस्कृतिक मामलों के मंत्री चरनजीत सिंह चन्नी, डॉक्टरी शिक्षा और खोज मंत्री ओ.पी. सोनी और सहकारिता मंत्री सुखजिन्दर सिंह रंधावा पर आधारित मंत्रियों के समूह का पहले ही गठन किया हुआ है। इसको श्री गुरु नानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व से सम्बन्धित विकास प्रोजेक्टों और स्कीमों की प्रगति पर रोज़मर्रा के आधार पर जायज़ा लेने का कार्य सौंपा गया है। मुख्यमंत्री ने एस.जी.पी.सी. के नुमायंदों के साथ विचार विमर्श करके 10 दिन (5 नवंबर से 15 नवंबर, 2019) के प्रोग्राम को अंतिम रूप देने के लिए मंत्रियों के समूह को कहा है। विचार-विमर्श के दौरान कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने सुलतानपुर लोधी -कपूरथला -करतारपुर -ब्यास -मेहता -बटाला (बाईपास समेत)-डेरा बाबा नानक तक 136 किलोमीटर के प्रस्तावित ‘गुरू नानक देव जी मार्ग ’ की रूपरेखा और फंडों के रूप को अंतिम रूप देने के लिए मुख्य सचिव को निर्देश दिए हैं। इसकी चौड़ाई 10 मीटर तक करने के लिए 96.15 करोड़ रुपए का कुल खर्चा आएगा। उन्होंने प्रमुख सचिव पी.डब्ल्यू.डी. को कहा है कि वह मुख्य सचिव की मंजूरी के बाद इस गौरवमयी प्रोजैक्ट को एक अलग प्रोजैक्ट के तौर पर लागू करें। मुख्यमंत्री ने विशेष मुख्य सचिव स्थानीय निकाय को भी कहा है कि वह सुलतानपुर लोधी विरासती शहर को 271 करोड़ रुपए के स्मार्ट सीटी प्रोजैक्ट अधीन लाने के प्रस्ताव को ज़ोरदार ढंग से आगे ले जाएं। इस सम्बन्धी सूबा सरकार ने पहले ही भारत सरकार के आवास एवं शहरी विकास मंत्रालय के पास एक धारणा प्लान पेश किया हुआ है। मुख्यमंत्री ने सुलतानपुर लोधी में लड़कियों के लिए बेबे नानकी यूनिवर्सिटी कॉलेज का उद्घाटन करने के लिए भी सहमति जताई। इसको जी.एन.डी.यू. अमृतसर के सम्बन्धित कॉलेज के तौर पर चलाया जायेगा। इसकी क्लासें मौजूदा अकादमिक सैशन 2019 -20 के दौरान शुरू की जाएंगी। मुख्यमंत्री ने सुलतानपुर लोधी के विधायक को कहा कि वह नज़दीक के गाँवों की छात्राओं के माता-पिता को अपनी बेटियों को ग्रेजुएशन पाठ्यक्रमों के लिए इस कॉलेज में दाखि़ला दिलाने के लिए प्रेरित करें जहाँ गुरू नानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व के हिस्से के तौर पर मुफ़्त में तीन साल के लिए पाठ्यक्रमों की पेशकश की जा रही है।कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने अगस्त 2019 के पहले हफ़्ते 319 करोड़ रुपए की लागत के साथ इन्दर कुमार गुजराल पंजाब टैक्निकल यूनिवर्सिटी की तरफ से स्थापित श्री गुरु नानक देव जी सैंटर फॉर इन्वैंशन, इनोवेशन, इनकुबेशन एंड ट्रेनिंग (सी.आई.आई.आई.टी) का उद्घाटन करने के लिए सहमति दे दी है। श्री गुरु नानक देव जी के चरण स्पर्श प्राप्त गाँवों का प्राथमिकता के आधार पर विकास करने सम्बन्धी पी.डब्ल्यू.डी. मंत्री की तरफ से पेश किये गए प्रस्ताव को स्वीकृत करते हुए कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने सम्बन्धित विधायक, डिप्टी कमिश्नर और एस.डी.एम. आधारित कमेटीयाँ गठित करने के निर्देश दिए हैं जो पहल के आधार पर विकास कार्यों को शुरू करने को अंतिम रूप देंगी। उन्होंने श्री गुरु नानक देव जी के साथ सम्बन्धित कस्बों और शहरों के समूचे बुनियादी ढांचों के विकास को यकीनी बनाने के लिए विशेष मुख्य सचिव स्थानीय निकाय को कहा है। इनकी सूची पर्यटन और सांस्कृतिक विभाग की तरफ से मुहैया कराई जायेगी। मीटिंग के दौरान यह भी बताया गया कि सूचना और लोक संपर्क विभाग की तरफ से श्री गुरु नानक देव जी द्वारा विश्व के अलग -अलग हिस्सों में की गई विभिन्न उदासियों के अलावा उनके जीवन और कामों बारे 88 मिनट की एपिक चैनल से चार हिस्सों में फि़ल्म तैयार करवाई है। प्रकाश पर्व के अवसर पर सुलतानपुर लोधी में तीन अलग -अलग स्थानों पर तकरीबन 40 हज़ार लोगों को रहने की सुविधा मुहैया कराने के लिए 52.84 करोड़ रुपए की लागत के साथ तैयार की जाने वाली ‘टैंट सीटी ’ की प्रगति बारे भी मुख्यमंत्री को अवगत करवाया गया। सुलतानपुर लोधी के विधायक ने मुख्यमंत्री को बताया कि नज़दीक के कस्बों और गाँवों में रहते बहुत से लोगों ने श्रद्धालुओं के लिए अपनी रिहायश देने की पहले ही पेशकश की है। प्रशासकीय सुधार विभाग की तरफ से विकसित की जा रही एक वैबसाईट बारे भी कैप्टन अमरिन्दर सिंह को अवगत करवाया गया। इसको अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त एक एजेंसी की तरफ से आउट सोर्सिंग के द्वारा तैयार करवाया जा रहा है। इसका डिज़ायनिंग में बहुत ज़्यादा तजुर्बा और महारत है। यह पोर्टल सोशल मीडीया के अलग -अलग मंचों के साथ जोड़े जाएंगे। स्थानीय निकाय और पी.डब्ल्यू.डी. की तरफ से किये जा रहे अलग -अलग विकास कामों की गति पर संतोष प्रकट करते हुए मुख्यमंत्री ने सम्बन्धित एजेंसियोँ के द्वारा इनके कामों की प्रगति पर नियमित तौर पर निगरानी रखने के लिए मुख्यसचिव को कहा है जिससे 12 नवंबर, 2019 को सुलतानपुर लोधी में मनाए जा रहे इस महा समारोह से पहले ही यह काम समय पर मुकम्मल होने को यकीनी बनाया जा सके। मुख्यमंत्री ने अमृतसर, आनन्दपुर साहिब तलवंडी साबो, सुलतानपुर लोधी और डेरा बाबा नानक में पाँच स्थानों पर बड़े कोमैमोरेटिव कौलम्ज़ और 22 कस्बों में छोटे कोमैमोरेटिव कौलम्ज़ स्थापित करने को परवानगी दे दी है। इनको पी.डब्ल्यू.डी. की निगरानी में इंडियन फेडरेशन ऑफ यूनाईटेड नेशनज़ एसोशिएशन (आई.एफ.यू.एन.ए) के नुमायंदों की तरफ से पेश किये डिज़ाइन के अनुसार परवानगी दी गई है। मुख्यमंत्री ने सुलतानपुर लोधी में आठ एकड़ क्षेत्रफल में पंजाब स्टेट कौंसिल फॉर सार्इंस एंड टेक्नोलॉजी द्वारा बायो डायवर्सिटी पार्क के लिए भी सहमति दे दी है। मीटिंग के दौरान ए.सी.एस. खेल ने मुख्यमंत्री को बताया कि इस समारोह के हिस्से के तौर पर सुलतानपुर लोधी से डेरा बाबा नानक तक एक विशाल साइकिल रैली आयोजित कराई जा रही है जिसमें 550 साइक्लिस्ट भाग लेंगे। नौजवानों में खेल भावना को पैदा करने के संदर्भ में ही मुख्यमंत्री ने गाँव, ब्लॉक, सब -डिविजऩ, जि़ला स्तर पर कबड्डी चैंपियनशिप की लड़ी आयोजित कराने के अलावा पहले ही योजनाबद्ध किये गए विश्व कबड्डी कप को आयोजित कराने के लिए भी ए.सी.एस. खेल को कहा है। इस ऐतिहासिक मौके पर सुलतानपुर लोधी में नतमस्तक होने वाले श्रद्धालुओं को ट्रांसपोर्ट की सुविधा मुहैया कराने के मुद्दे पर यह फ़ैसला किया गया कि मुख्यमंत्री सिखों की बड़ी जनसंख्या वाले सूबों के सभी मुख्यमंत्रियों को पत्र लिखकर अधिक से अधिक सम्मिलन को यकीनी बनाने और विशेष रेल गाड़ीयों और बसों की सर्विस शुरू करने के लिए कहेंगे। इस मौके पर मुख्यमंत्री ने इन समारोहों के चिह्न के तौर पर यादगारी तमगे जारी किये। ए.सी.एस. उद्योग और कॉमर्स ने मुख्यमंत्री को बताया कि पंजाब लघु उद्योग और निर्यात निगम लिमिटड (पी.एस.आई.ई.सी.) को सूबा सरकार की तरफ से यह यादगारी तमगों का काम सौंपा है जो कि आम लोगों के लिए उपलब्ध होंगे। यह यादगारी तमगे 999 शुद्धता के लिए मैटल्ज़ एंड मिनरल्ज़ ट्रेडिंग कार्पोरेशन (एम.एम.टी.सी.) की तरफ से मंजूर किये गए हैं जो कि 24 कैरट सोने में पाँच और दस ग्राम में उपलब्ध होंगे। यह 50 ग्राम शुद्ध चाँदी (999 शुद्धता) में भी आकर्षित पैकिंग में उपलब्ध होंगे। 10 ग्राम सोने (999 शुद्धता) की बिक्री कीमत 37000 /- रुपए, पाँच ग्राम सोने (999 शुद्धता) की कीमत 18,500 /- रुपए और 50 ग्राम चाँदी (999 शुद्धता) की कीमत 2900 /- रुपए होगी। इनकी बिक्री फुलकारी, पी.एस.आई.सी. के पंजाब सरकार इम्पोरियम्ज़ की तरफ से की जायेगी जो चण्डीगढ़, अमृतसर, पटियाला, दिल्ली और कलकत्ता में होगी। इसके अलावा यह तमगे एम.एम.टी.सी. की देशभर में 16 परचून दुकानों पर भी प्राप्त होंगे। मुख्यमंत्री ने कार्यकारी कमेटी को और व्यापक बनाने के लिए खडूर साहिब से मैंबर पार्लियामेंट जसबीर सिंह डिम्पा को इसमें शामिल करने के लिए भी मंज़ूरी दी।इसी दौरान प्रमुख सचिव सांस्कृतिक मामले विकास प्रताप ने मीटिंग का संचालन किया।मीटिंग में उपस्थित दूसरे प्रमुख व्यक्तियों में पर्यटन एवं संास्कृतिक मामलों के मंत्री चरनजीत सिंह चन्नी, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री बलबीर सिंह सिद्धू, लोक निर्माण मंत्री विजय इंदर सिंगला, ट्रांसपोर्ट मंत्री रजिया सुलताना, विधायक सुलतानपुर लोधी नवतेज सिंह चीमा, मुख्यसचिव करण अवतार सिंह, विशेष मुख्यसचिव स्थानीय निकाय एम.पी. सिंह, अतिरिक्त मुख्यसचिव गृह एन.एस. कलसी, ए.सी.एस उद्योग और कॉमर्स विनी महाजन, ए.सी.एस खेल संजय कुमार, ए.सी.एस वन रौशन संकारिया, ए.सी.एस स्वस्थ्य एवं परिवार कल्याण सतीश चंद्रा, वित्त कमिश्नर ग्रामीण विकास एवं पंचायत अनुराग वर्मा, प्रमुख सचिव /मुख्यमंत्री तेजवीर सिंह, सचिव सूचना एवं लोक संपर्क गुरकिरत कृपाल सिंह, विशेष सचिव ट्रांसपोर्ट के.शिवा प्रसाद, प्रिंसीपल सचिव जल स्पलाई और सेनिटेशन जसप्रीत तलवाड़, प्रिंसीपल सचिव लोक निर्माण हुस्न लाल, प्रमुख सचिव प्रशासकीय सुधार सीमा जैन, सचिव उच्च शिक्षा वी.के मीना, डी.जी.पी. दिनकर गुप्ता, सी.ई.ओ. इनवेस्टमैंट पंजाब रजत अग्रवाल, मैनेजिंग डायरैक्टर पी.एस.आई.ई.सी राहुल भंडारी और डी.सी कपूरथला डी.पी.एस खरबन्दा शामिल थे।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

two × 3 =

Most Popular

To Top