पंजाब

अपने गुनाहों पर पर्दा डालने के लिए लोगों का ध्यान एक तरफ़ करने की कोशिश ना करो -कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने हरसिमरत को कहा

अकालियों को गुनाहों की सज़ा से बचाने के लिए निराशाजनक कोशिशें कर रही हरसिमरत
चंडीगढ़ – हरसिमरत कौर बादल द्वारा लगाए गए दोषों को भ्रामक और दुष्ट बताते हुए पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने कहा कि शिरोमणि अकाली दल अपनी जि़म्मेदारी से लोगों का ध्यान एक तरफ़ करने के लिए नशों जैसे गंभीर मुद्दों को इस्तेमाल कर रहा है।राज्य में नशों पर नकेल डालने में असफल रहने संबंधी कैप्टन सरकार पर लगाए दोषों पर तीखी प्रतिक्रिया प्रकट करते हुए मुख्यमंत्री ने हरसिमरत के स$फेद झूठ बोलने पर दुख और गुस्सा प्रकट किया और कहा कि वह पिछली शिरोमणि अकाली दल और भाजपा सरकार के गुनाहों पर पर्दा डालने की कोशिश के तौर पर इस तरह का सफेद झूठ बोल रही है।मुख्यमंत्री ने कहा कि यह पहला मौका नहीं है जब उन्होंने नशों की समस्या के साथ निपटने के लिए प्रधानमंत्री को राष्ट्रीय ड्रग नीति बनाने की अपील की है। उन्होंने कहा कि हरसिमरत की टिप्पणी से उसकी राज्य की ज़मीनी हकीकतों संबंधी नासमझी का दिखावा होता है। उन्होंने कहा कि बादल की सत्ता ने नशा माफिया को खुलकर खेलने की छुट देकर नौजवानों का जीवन तबाह कर दिया और लोगों में पूरी तरह भरोसा गवा चुके बादलों में इस भरोसे को पुन: प्राप्त करने के लिए हरसिमरत निराशा में ऐसे बयान दे रही है।कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने कहा कि उनकी सरकार ने न केवल नशा माफिया की कमर तोड़ी है बल्कि इसने बहुत सारे तस्करों और डीलरों को सलाखों के पीछे भेज दिया है जबकि कुछ और मु_ी भर राज्य छोड़ कर फऱार हो गए हैं। लाजि़मी तौर पर हरसिमरत ने अपने निजी हितों के मद्देनजऱ कभी भी यह जानने की कोशिश नहीं की कि यह किस तरह गिरफ़्तार किये गए हैं और कैप्टन सरकार द्वारा ओ.ओ.ए.टी. क्लिनिकों में कितने नौजवानों का इलाज चल रहा है।मुख्यमंत्री ने कहा कि बादलों की गुमराह करने की प्रवृत्ति ने उनको इस तथ्य से अनजान कर दिया है कि 10 सालों का बुरा दौर झेलने वाले पंजाबी अब इनके झूठों और मनघड़ंत बातों से मूर्ख बनने वाले नहीं हैं।कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने कहा,‘‘क्या उसको (हरसिमरत) इतनी भी समझ नहीं है कि नशा एक अंतर-राज्यीय समस्या है और इसका राष्ट्रीय प्रभाव है। कुछ राज्यों में पोस्त की पैदावार कानूनी तौर पर जायज़ है और पाकिस्तान द्वारा भी सरहद पार से नशे सप्लाई किये जा रहे हैं। यदि किसी को थोड़ी-बहुत भी समझ हो तो इस समस्या से निपटने के लिए केंद्र सरकार के नेतृत्व में सभी राज्यों के सांझे यत्नों की महत्व संबंधी पता होता। परन्तु हरसिमरत बादल को अपने शब्दों के अर्थों का मतलब या निष्कर्ष को जाने बिना जो मुँह में आया, वह कह देने की आदत है।हरसिमरत ने एक ट्वीट में कहा था कि कांग्रेस के विधायक पुलिस और राजनीतिज्ञों से साँठ-गाँठ के दोष लगा रहे हैं तो इसका जवाब देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि उनकी पार्टी के विधायक बादलों के खून के भी प्यासे हैं जो बेअदबी और नशों समेत बहुत से मामलों की उचित जांच किए बिना उनको सज़ा देना चाहते हैं। मुख्यमंत्री ने हरसिमरत बादल पर चुटकी लेते हुए कहा,‘‘इस कारण मुझे इन विधायकों की बात सुननी चाहिए और तुम सभी को सलाखों के पीछे फैंक दिया जाये।’’मुख्यमंत्री ने कहा आम लोगों की तरह कांग्रेस के विधायकों ने बादल के शासन के दौरान कष्ट बर्दाश्त किए हैं और उनको अकाली-भाजपा सरकार द्वारा की गई तबाही का भी गुस्सा है जिस कारण उनकी प्रतीक्रिया आनी स्वाभाविक है कि विभिन्न अपराधों के सूत्रधार शायद बच निकलेंगे। उन्होंने कहा कि वह किसी भी दोषी को सज़ा से बच निकलने की इजाज़त नहीं देंगे, चाहे वह पिछली सरकार में कितने भी बड़े पद पर क्यों न रहा हो।मुख्यमंत्री ने कहा,‘‘आप अपने गुनाहों की सज़ा भुगतने जा रहे हो।’’उन्होंने कहा कि ऐसे मनघडंत और आधारहीन दोषों से हरसिमरत या बाकी बादल कुनबा लोगों के गुस्से या उनके नाक तले हुए जुर्मों के लिए कानून के शिकंजे से बच नहीं सकेगा।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

fourteen + three =

Most Popular

To Top