पंजाब

सहकारिता विभाग की किसानों को घर बैठे, उधार और बढिय़ा गुणवत्ता वाला तेल मुहैया करवाने की पहल

सहकारी संस्थाओं की खाली पड़ी जगहों पर इंडियन ऑयल खोलेगा रिटेल आऊटलैट-सुखजिन्दर सिंह रंधावा

चंडीगढ़ – सहकारी संस्थाओं को आर्थिक तौर पर मज़बूत करने की दिशा में सहकारिता विभाग ने किसानों को उनके घरों के पास ही बढिय़ा गुणवत्ता वाला तेल उधार देने की पहल करते हुए आज इंडियन ऑयल निगम के साथ आपसी सहमति का समझौता (एम.ओ.यू.) किया। सहकारिता मंत्री स. सुखजिन्दर सिंह रंधावा की हाजिऱी में किये इस समझौते से सहकारी संस्थाओं की खाली पड़ी ज़मीनों पर इंडियन ऑयल अपने रिटेल आऊटलैट (पम्प) खोलेगा।आज यहाँ पंजाब भवन में हुए समागम के दौरान बोलते हुए सहकारिता मंत्री स. रंधावा ने कहा कि किसानों को सीधा फ़ायदा देने के लिए सहकारिता विभाग अधीन आते सहकारी संस्थाओं मार्कफैड, मिल्कफैड, शूगरफैड और ग्रामीण कृषि सोसायटियों की खाली पड़ी ज़मीनों पर यह पंप खोले जाएंगे। इसके साथ जहाँ ज़मीनों का सही प्रयोग होगा वहां सहकारी संस्थाओं को वित्तीय लाभ होगा और रोजग़ार के अतिरिक्त मौके पैदा होंगे। उन्होंने कहा कि सहकारिता विभाग की इस पहल से किसानों को उधार डीज़ल और पेट्रोल की सप्लाई की जायेगी जिसकी अदायगी किसानों द्वारा फ़सल आने के बाद की जायेगी। इसके अलावा किसानों को तेल डलवाने के लिए दूर भी नहीं जाना पड़ेगा।सहकारिता मंत्री ने बताया कि इन रिटेल आऊटलेट्स की स्थापना के लिए पूँजी का निवेश इंडियन ऑयल निगम द्वारा ही किया जायेगा जबकि ज़मीन सहकारिता विभाग द्वारा मुहैया करवाई जा रही है। उन्होंने बताया कि इंडियन ऑयल निगम द्वारा स्थानों की योग्यता के अनुसार इनमें मार्कफैड, मिल्कफैड और शूगरफैड्ड के उत्पादों की बिक्री के लिए डिपार्टमेंटल स्टोर और फूड कोर्ट का प्रबंध भी किया जायेगा, जिससे न केवल सहकारी संस्थाओं को वित्तीय फ़ायदा होगा बल्कि आम जनता को भी सस्ते और बढिय़ा स्तर के उत्पाद उपलब्ध होंगे। स. रंधावा ने बताया कि सहकारी चीनी मिलों द्वारा गन्ना काश्तकारों को चीनी मिलों में ही उधार डीज़ल और पेट्रोल की सप्लाई की जायेगी और इसकी कीमत गन्ने की कीमत की अदायगी में एडजस्ट की जायेगी। उन्होंने कहा कि जेल विभाग भी जून के पहले हफ्ते एम.ओ.यू. करने जा रहा है।अतिरिक्त मुख्य सचिव (सहकारिता) श्री विसवाजीत खन्ना ने बोलते हुए कहा कि इससे जहाँ किसानों को सीधा फ़ायदा पहुँचेगा वहीं सहकारी सोसायटियां भी आर्थिक तौर पर आत्मनिर्भर होंगी। उन्होंने कहा कि पहले पड़ाव में पंजाब में 15 स्थानों पर यह आऊटलैट खोले जा रहे हैं और विभाग का लक्ष्य आने वाले समय में सभी सोसायटियों को भी कवर करने का होगा। उन्होंने कहा कि इससे रोजग़ार के प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष अवसर भी पैदा होंगे।इंडियन ऑयल निगम के कार्यकारी निर्देशक श्री सुजाए चौधरी ने सहकारिता विभाग द्वारा दिए सहयोग का धन्यवाद करते हुए कहा कि किसानों के लिए नई पहल शुरू करने वाला पंजाब देश का पहला राज्य है। उन्होंने विश्वास दिलाया कि इंडियन ऑयल द्वारा इस प्रोजैक्ट को सफल बनाने के लिए पूरी मेहनत की जायेगी। उन्होंने कहा कि आऊटलैट किसानों के लिए किसान सेवा केंद्र का काम करेंगे जहाँ खाद, बीज, कृषि मशीनरी भी मिलेगी।सहकारिता मंत्री स. रंधावा और अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री खन्ना और श्री चौधरी की हाजिऱी में सहकारिता विभाग द्वारा रजिस्ट्रार सहकारी सभाएं श्री विकास गर्ग और इंडियन ऑयल द्वारा जनरल मैनेजर (रिटेल सेल्ज़) श्री अमरिन्दरा कुमार ने एम.ओ.यू. पर दस्तखत किये। इस मौके पर प्रोजैक्ट के नोडल अफ़सर और शूगरफैड के प्रशासनिक निर्देशक श्री दविन्दर सिंह, मार्कफैड के प्रशासनिक निर्देशक श्री वरुण रूज़म, मिल्कफैड के प्रशासनिक निर्देशक श्री कमलदीप सिंह संघा, पंजाब राज्य सहकारी बैंक के प्रशासनिक निर्देशक डा.एस.के. बातिश, इंडियन ऑयल के डिप्टी जनरल मैनेजर (रिटेल सेल्ज) तहसीन रिआज़, शूगरफैड से श्री कंवलजीत सिंह और श्री हरबख़श सिंह और मार्कफैड से श्री बाल मुकन्द शर्मा भी उपस्थित थे।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

19 − 4 =

Most Popular

To Top