मध्यप्रदेश

प्रतिभाओं को कुंठित नहीं होने देंगे : मुख्यमंत्री श्री चौहान

मुख्यमंत्री द्वारा प्रतिभाशाली छात्र-छात्राओं को छात्रवृत्ति वितरित

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि बच्चे देश का भविष्य हैं। बच्चे पढ़ते जायें, बढ़ते जायें, अपना भविष्य गढ़ते जायें। उन्होंने कहा कि प्रतिभाओं को कुंठित नहीं होने दिया जायेगा। राह में जो भी बाधा आयेगी, उसे दूर किया जायेगा। उन्होंने छात्र-छात्राओं को आश्वस्त किया कि वे बनी बनाई लकीर पर नहीं चलते हैं। छात्र-छात्राओं को जो भी समस्या होगी, उसका समाधान किया जायेगा। श्री चौहान आज विधानसभा के मानसरोवर सभागार में स्वर्ण शारदा स्कॉलरशिप समारोह को संबोधित कर रहे थे।

श्री चौहान ने कहा कि बच्चों के साथ जो पल बीतते हैं, वो उनके जीवन के सबसे सुखद पल होते हैं, उन्हें प्रसन्नता देते हैं। उन्होंने कहा कि प्रतिभाओं के साथ वे सदैव खड़े हैं, और उन्हें हरसंभव सहायता देने का प्रयास कर रहे हैं। राज्य सरकार द्वारा नि:शुल्क पुस्तकें, दूसरे गाँव पढ़ने जाने के लिये साईकिलें, लाड़ली लक्ष्मी योजना आदि अनेक योजनाएं बनाई गई हैं। श्री चौहान ने कहा कि आर्थिक रूप से कमजोर परिवारों के मेधावी बच्चों की फीस भरने की समस्या उन्हें बताई जाती थी। समस्या के समाधान के लिये मुख्यमंत्री मेधावी विद्यार्थी प्रोत्साहन योजना लागू की गई। उन्होंने कहा कि पहले योजना के लिये 75 प्रतिशत अंकों की सीमा थी, जिसे बच्चों की मांग पर 70 प्रतिशत कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि यह उपलब्धि पड़ाव है। मंजिल अभी आगे हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि पश्चिमी संस्कृति का अंधा अनुकरण नहीं करना चाहिये। भारतीय संस्कृति में महिलाओं को देवी का सम्मान दिया गया है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में महिलाओं की सुरक्षा को सर्वोच्च प्राथमिकता दी गई है। मासूम के साथ दुराचार करने वाले दरिंदों को फाँसी दिलवाने का मध्यप्रदेश विधानसभा द्वारा सबसे पहले निर्णय किया गया था। अभी तक दस लोगों को राज्य में फाँसी की सजा सुनाई गई है। उन्होंने बेटों से अपील की कि माताओं, बहनों का सदैव सम्मान करें।

विधानसभा अध्यक्ष श्री सीताशरण शर्मा ने कहा कि सच्चा राजनेता वो है, जो अपने विज़न पर चलता है। समाज उसका अनुसरण करने लगता है। मुख्यमंत्री के बेटा-बेटी पढ़ाओ विज़न को समाज ने स्वीकार किया है। उन्होंने कहा कि जिस तरह मुख्यमंत्री ने स्वयं बेटियों का सम्मान कर समाज के सामने उदाहरण प्रस्तुत किया, यही राजनेता का दायित्व है। कार्यक्रम के प्रारंभ में पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय श्री अटल बिहारी वाजपेयी को दो मिनिट का मौन रख श्रद्धांजलि दी गई। मुख्यमंत्री ने प्रतिभाशाली छात्र-छात्राओं को स्कॉलरशिप का वितरण किया और कॉफी टेबल बुक मेधा का विमोचन किया। आईबीसी-24 ग्रुप के चेयरमेन श्री सुरेश गोयल ने पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेयी का स्मरण किया और स्कॉलरशिप को अटल जो को समर्पित करने की जानकारी दी। इस अवसर पर आध्यात्मिक गुरू श्री पवन सिन्हा, आईबीसी-24 के प्रबंध संचालक श्री नरेन्द्र गोयल और एडीटर इन चीफ श्री रविकान्त मित्तल भी मौजूद थे।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

thirteen − eleven =

Most Popular

To Top