पंजाब

राफेल मुद्दे बारे अमित शाह के बयान द्वारा भारतीय जनता पार्टी की मानसिकता उजागर -जाखड़

भ्रष्टाचार और भाई-भतीजावाद से लिप्त राफेल सौदे बारे जे पी सी की जांच की मांग
चंडीगढ़ – पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष सुनील जाखड़ ने राफेल सौदे बारे भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह के बयान की तीखी आलोचना की है । उन्होंने कहा कि भाजपा अध्यक्ष का यह बयान उनकी पार्टी की मानसिकता को उजागर करता है । उन्होंने कहा कि भाजपा को देश की सुरक्षा की कोई भी चिंता नहीं है और इसका सम्बन्ध सिफऱ् सौदेबाज़ी के साथ ही है । कांग्रेस के राज्य अध्यक्ष ने राफेल सौदे की जांच बारे संयुक्त संसदीय कमेटी (जेपीसी) बनाऐ जाने की माँग की है । उन्होंने कहा कि यह सौदा भाई -भतीजावाद और भ्रष्टाचार में पूरी तरह लिप्त है ।आज यहाँ जारी एक बयान में श्री जाखड़ ने कहा कि राफेल की खरीद भाजपा के लिए सिफऱ् एक सौदा है परन्तु कांग्रेस के लिए यह राष्ट्रीय सुरक्षा का मामला है । इस सौदे से राष्ट्रीय सुरक्षा को पेश उलझनों की जानकारी देते हुए पी.पी.सी.सी. के अध्यक्ष ने कहा कि देश इनको अनदेखा नहीं कर सकता । उन्होंने कहा कि इस विवादपूर्ण समझौते बारे जानने का हरेक देशवासी को अधिकार है ।श्री जाखड़ ने कहा कि अरुण शौरी और यशवंत सिन्हा की तरफ से दिए गए बयानों को शाह कम करके देखने की कोशिश कर रहा है । उन्होंने कहा कि यह दोनों वाजपायी सरकार में मंत्री थे और उन्होंने स्पष्ट संदेश दिया है कि इस समझौते में कुछ तो गुप्त है जिसको सत्ताधारी पार्टी लोगों के सामने नहीं रखना चाहती । श्री शौरी और श्री सिन्हा की तरफ से दिए गए बयानों को श्री जाखड़ ने रद्द करने से इन्कार किया । शाह ने कहा था कि सरकार में ‘नौकरी’ न मिलने के कारण इन दोनों की तरफ से बिना किसी बात के शौर मचाया जा रहा है । श्री जाखड़ ने कहा कि इन दोनों पूर्व मंत्रियों के बयानों को रद्द नहीं किया जा सकता और शाह ने यह बयान देकर भाजपा की तंगदिली को जाहिर किया है ।श्री जाखड़ ने कहा कि कांग्रेस ने संसद में इस सौदे से सम्बन्धित मुद्दे को उठाकर देश के लोगों को यह बताया है कि लड़ाकू जहाजों की खरीद एक गंभीर सौदा है और यह कोई बच्चों का खेल नहीं है । उन्होंने कहा कि अनिल अंबानी की कंपनी को इस अहम और संवेदनशील मुद्दे बारे कोई तजुर्बा नहीं है जिसको इस समझौते के लिए चुना गया है । उन्होंने कहा कि इससे भाजपा के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार की मंशा उजागर हो गई है जिसका उद्देश्य राष्ट्रीय सुरक्षा के हितों की रक्षा करना नहीं है । श्री जाखड़ ने कहा कि अंबानी की कंपनी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की तरफ से फ्रांस से जैट खरीदने के फ़ैसले बारे सरकार की तरफ से किये गए ऐलान के केवल 10 दिन पहले ही रजिस्टर्ड हुई है । यह रजिस्ट्रेशन विदेश सचिव जय संकर और राफेल के सी.ई.ओ की तरफ से यह दिखावा करने कि इस सौदे बारे उनके बीच विचार विमर्श अंतिम पड़ाव पर पहुँच गया है से सिफऱ् दो दिन पहले हुई है । इस समूचे सौदे को अमल में लाने के तौर तरीकों की आलोचना करते हुए श्री जाखड़ ने कहा कि इससे यह सबूत मिलते हैं कि अनिल अंबानी को इस समझौते पर हस्ताक्षर होने से पहले बहुत कुछ पता था । श्री जाखड़ ने कहा कि राफेल सौदे से सिफऱ् 2 दिन पहले अंबानी की तरफ से अपनी कंपनी रजिस्टर्ड कराने से यह पता चलता है कि उसे इस लाभप्रद सौदे के होने बारे पता था । श्री जाखड़ ने कहा कि यह सरकारी गुप्तता एक्ट का उल्लंघन है । उन्होंने कहा कि इस मामले की तह तक जाने के लिए लाजि़मी तौर पर जे.पी.सी का गठन होना चाहिए जिससे इसकी सच्चाई का पता लग सके । इसको जानने का हरेक भारतीय को अधिकार है ।
कांग्रेस के राज्य अध्यक्ष ने कहा कि इस मामले में हमारे देश की सुरक्षा दांव पर लगी है । यह कोई कुछ करोड़ों का मामला नहीं है । उन्होंने कहा कि देश की सुरक्षा के मामले पर किसी भी कीमत पर किसी को भी कोई भी समझौता करने की आज्ञा नहीं दी जा सकती ।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

twelve + fourteen =

Most Popular

To Top