सोलन

आगंनवाड़ी कार्यकर्ता एवं सहायिकाएं महिला सशक्तिकरण की संवाहक-डॉ. सैजल

सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता तथा सहकारिता मंत्री डॉ. राजीव सैजल ने कहा कि आंगनबाड़ी कार्यकर्ता एवं सहायिकाएं महिला सशक्तिकरण की दिशा में मुख्य संवाहक हैं। डॉ. सैजल आज सोलन जिले के कसौली विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत परवाणू में पर्यवेक्षकों, आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं तथा सहायिकाओं के सम्मेलन की अध्यक्षता कर रहे थे। डॉ. सैजल ने कहा कि हिमाचल जैसे पहाड़ी प्रदेश में आज भी 90 प्रतिशत के आसपास जनसंख्या गांव में निवास करती है। ग्रामीण क्षेत्रों में महिलाओं को सरकार की कल्याणकारी योजनाओं से अवगत करवाने तथा इन योजनाओं के लाभ महिलाओं तक पहुंचाने में आंगनबाड़ी कार्यकर्ता एवं सहायिकाएं महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही हैं। उन्होंने कहा कि धात्री महिलाओं तथा शिशुओं तक पोषण पहुंचाने में आंगनबाड़ी केंद्रों की भूमिका किसी से छुपी नहीं है। आंगनबाड़ी कार्यकर्ता एवं सहायिकाएं सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग की रीढ़ हैं और प्रदेश सरकार विभाग के इस मजबूत आधार को और सुदृढ़ करने के लिए पूर्ण सहायता प्रदान करेगी।
डॉ. सैजल ने कहा कि हाल ही में प्रदेश मंत्रिमण्डल ने आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं, आंगनवाड़ी सहायिकाओं तथा मिनी आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं के मानदेय का प्रदेश का हिस्सा बढ़ाकर क्रमशः 1450 से 1750 रुपये, 600 से 900 रुपये तथा 750 से 1050 रुपये प्रतिमाह किया गया है। इस बढ़ौतरी से अब आंगनवाड़ी कार्यकर्ता को प्रतिमाह 4750 रुपये, आंगनवाड़ी सहायिकाओं को 2400 रुपये तथा मिनी आंगनवाड़ी कार्यकर्ता को 3300 रुपये का मानदेय मिलेगा। उन्होंने कहा कि केंद्रीय स्तर पर भी वे आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के वेतनमान में वृद्धि का मामला उठा चुके हैं। शीघ्र ही इस दिशा में भी सकारात्मक कार्यवाही होने की संभावना है।
सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री ने आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं एवं सहायिकाओं से आग्रह किया कि वे मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के नेतृत्व में प्रदेश के विकास में सहायक बनें और हड़ताल जैसी नकारात्मक गतिविधियों से परहेज करें। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर समाज के सभी वर्गों तथा कर्मचारियों को विकास पथ पर आगे ले जाने के लिए दृढ़संकल्प हैं और सभी के सहयोग से हिमाचल वर्तमान सरकार की अगुवाई में विकास के सभी मानकों पर श्रेष्ठ बनकर उभरेगा। उन्होंने आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं एवं सहायिकाओं से आग्रह किया कि वे बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ जैसी महिला सशक्तिकरण की योजनाओं का प्रचार-प्रसार एवं बेहतर कार्यान्वयन सुनिश्चित बनाएं। उन्होंने आग्रह किया कि सभी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ‘मन की बात’ अवश्य सुनें और इससे प्रेरणा लेकर विकास प्रक्रिया को आगे बढ़ाएं।
उन्होंने इस अवसर पर बेटी है अनमोल योजना के तहत कसौली तहसील के गांव मंगाटीमोड की राधिका पत्नी दीपक कुमार, मध्याणा निचला गांव की रिधि शर्मा पत्नी अजय शर्मा, हरी का खील गांव की एकता पत्नी पवन कुमार, खडीन गांव की दक्षिता पत्नी अमित कुमार, जामली गांव की महक पत्नी छविकांत तथा करोल गांव की तमन्ना शर्मा पत्नी वेद प्रकाश को 10-10 हजार रुपये की एफडी प्रदान की। उन्होंने योजना के तहत परवाणू सैक्टर-3 की नवजात शिशु की माता बीजमाली, इसी क्षेत्र की मंजू, सैक्टर-2 परवाणू की राधा उर्मिला, चंद्रकला, शबनम तथा निचला गुम्मा की मंजू को सम्मानित भी किया। प्रदेश महिला आयोग की अध्यक्ष डॉ. डेजी ठाकुर ने इस अवसर पर कहा कि महिला सशक्तिकरण के लिए महिलाओं को एकजुट होकर आगे बढ़ना होगा तथा अपनी जानकारी को नियमित रूप से अद्यतन करना होगा। उन्होंने कहा कि महिला आयोग का उद्देश्य समाज में महिलाओं के प्रति सकारात्मक माहौल उत्पन्न करना है। इस अवसर पर आंगनबाड़ी केंद्र के बच्चों द्वारा रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम भी प्रस्तुत किया गया। भाजपा मंडल कसौली के अध्यक्ष दौलत राम ठाकुर, ग्राम केंद्र प्रभारी प्रकाश वर्मा, सह प्रभारी विजय शर्मा, जिला कार्यक्रम अधिकारी वंदना चौहान, जिला कल्याण अधिकारी बीएस ठाकुर, विभिन्न विभागों के वरिष्ठ अधिकारी, गणमान्य व्यक्ति तथा बड़ी संख्या में आंगनबाड़ी पर्यवेक्षक, कार्यकर्ता तथा सहायिकाएं उपस्थित थी।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

nineteen − thirteen =

Most Popular

To Top