पंजाब

सेवा केन्द्रों में 25 लाख 71 हज़ार अजिऱ्यों का निपटारा, केवल 29439 बाकी-विनी महाजन

नागरिक केंद्रित सेवाओं की अजिऱ्यों के तत्काल और प्रभावी निपटारे स्वरूप बकाया दर केवल 1.3 प्रतिशत पर आकर सिमटी
चंडीगढ़ – सेवा केन्द्रों के द्वारा नागरिक सेवाएं मुहैया करवाने में बड़ा सुधार नजऱ आने लगा है। प्रशासकीय सुधारों संबंधी विभाग ने इन सेवाओं की बकाया दर में बड़ी कमी दर्ज की है जो 16 दिसंबर तक 26,00795 अजिऱ्यों से कम होकर केवल 29439 तक रह गई और यह दर सिफऱ् 1.13 प्रतिशत बनती है।इस सम्बन्ध में विस्तृत जानकारी देते हुए प्रशासकीय सुधारों की अतिरिक्त मुख्य सचिव विनी महाजन ने बताया कि ठोस यत्नों और निरंतर निगरानी स्वरूप अलग-अलग नागरिक केंद्रित सेवाओं से सम्बन्धित बाकी अजिऱ्यों में महत्वपूर्ण कमी दर्ज हुई है। आंकड़ों के मुताबिक मानसा में सबसे कम बकाया अजिऱ्याँ हैं जो 82033 से कम होकर 42, संगरूर में 1,54,537 से 47 और रूपनगर में 70,735 से कम होकर 49 अजिऱ्याँ बकाया रह गई हैं।इसी तरह सबसे अधिक बकाया मामलों वाले जिलों लुधियाना (288265), अमृतसर (239925), होशियारपुर (211014), जालंधर (199391), पटियाला (178291), गुरदासपुर (151476) और बठिंडा (127190) के मामले कम होकर अब क्रमवार 5684, 5611, 2167, 2655, 1607, 1172 और 998 रह गए हैं। इसी तरह तरन तारन जि़ले में बकाया अजिऱ्यों की संख्या 100027 से कम होकर 1661 रह गई है जबकि एस.ए.एस. नगर मोहाली की 92399 के मुकाबले 667, श्री मुक्तसर साहिब में 65762 के मुकाबले 1248, मोगा में 85554 के मुकाबले 1422, फिऱोज़पुर में 83839 के मुकाबले 1111, फाजिल्का में 78671 के मुकाबले 778, फतेहगढ़ साहिब में 63572 के मुकाबले 546, कपूरथला में 79776 के मुकाबले 626, एस.बी.एस. नगर में 74563 के मुकाबले 569, बरनाला में 51250 के मुकाबले 321, फरीदकोट में 56083 के मुकाबले 333 और पठानकोट में 66442 के मुकाबले 125 अजिऱ्याँ लम्बित रह गई हैं।अतिरिक्त मुख्य सचिव ने आगे बताया कि विभाग ने कुल 8669 शिकायतों में से 4944 का निपटारा कारगर ढंग से किया है जिससे निपटारा दर 57.03 प्रतिशत दर्ज की गई है। नागरिक सेवाओं के साथ सम्बन्धित शिकायतों के बाकी मामलों पर तेज़ी से अमल किया जायेगा।17 दिसंबर, 2019 तक विभागों की बकाया शिकायतों बारे विस्तार में बताते हुए अतिरिक्त मुख्य सचिव ने कहा कि 127561 अजिऱ्यों में से लगभग 94637 अजिऱ्यों का निपटारा कर दिया गया जबकि बाकी 32924 अजिऱ्याँ बकाया हैं जिनकी बकाया दर 25.81 प्रतिशत बनती है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

8 + 5 =

Most Popular

To Top