पंजाब

‘चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ ’ के पद के सृजन विषय पर हुई पैनल-चर्चा

पैनल सदस्यों द्वारा कदम की सराहना, रक्षा सेनाओं में बेहतर तालमेल की उम्मीद प्रगटाई
चंडीगढ़ – यहां लेक क्लब में हो रहे मिलिट्री लिटरेचर फेस्टिवल 2019 के तीसरे और आखिरी दिन आज ‘चीफ़ ऑफ डिफेंस स्टाफ’ के पद के सृजन विषय पर विचार-चर्चा हुई। इस विचार-चर्चा सैशन का संचालन लैफ. जनरल रिटायर्ड श्री अदित्या सिंह ने किया जबकि इस पैनल-चर्चा में एयर मार्शल रिटायर्ड मनमोहन बहादुर, पूर्व रक्षा सचिव श्री शेखर दत्त, नयी दिल्ली में ब्रिटिश हाई कमिश्नर के सलाहकार ब्रिगेडियर जैविन थोमसन और लैफ़. जनरल रिटायर्ड संजीव लंगेर ने शिरकत की।इस मौके पर चर्चा करते हुए पैनल के सदस्यों ने इस पद की स्थापना के कदम की सराहना की और कहा कि 1999 के कारगिल युद्ध के बाद साल 2001 में मंत्रियों के समूह ने इस पद की स्थापना की सिफारिश की थी। संचालक लैफ़. जनरल अदित्या सिंह ने कहा कि इस पद की सृजना करने का मुख्य मकसद थल सेना, जल सेना और वायु सेना के बीच बेहतर तालमेल यकीनी बनाना था। उन्होंने कहा कि ‘चीफ़ ऑफ डिफेंस स्टाफ’ रक्षा सम्बन्धी सलाह देने के साथ-साथ सेनाओं के अलग- अलग अंगों में तालमेल की भूमिका निभाएगा।पूर्व रक्षा सचिव भारत सरकार श्री शेखर दत्त ने कहा कि ‘चीफ़ ऑफ डिफेंस स्टाफ’ के पर की सृजना इसलिए की गई है क्योंकि राष्ट्रीय सुरक्षा के सम्बन्ध में तीनों सेनाओं सम्बन्धी एकीकृत सलाह सरकार को मिल सके। जिस सम्बन्ध में आने वाले दिनों में इस पद पर पहली नियुक्ति होने की उम्मीद है।नयी दिल्ली में ब्रिटिश हाई कमिश्नर के सलाहकार ब्रिगेडियर जैविन थोमसन ने कहा कि सेनाओं के लिए एक एकीकृत संस्था की मुख्य ज़रूरत होती है कि फ़ैसले लेने के लिए एक संस्था हो और ब्रिटेन में यह प्रणाली कई सालों से चल रही है। इस दौरान उन्होंने बर्तानवी सेना के 83 साल के इतिहास का भी जि़क्र किया और अपनी सेना में चीफ़ ऑफ डिफेंस स्टाफ के कामकाज संबंधी बताया।लैफ़. जनरल संजीव लंगेर ने इस मौके पर एक प्रैजेंटेशन के द्वारा संयुक्त राज्य अमरीका, चीन, फ्रांस और रूस आदि देशों की रक्षा सेनाओं में आर्मी कमांड का तुलनात्मक अध्ययन पेश किया। उसने कहा कि रक्षा मंत्रालय में सैन्य पृष्टभूमि से स्थायी नियुक्तियाँ की जानी चाहीए हैं। उन्होंने कहा कि चीफ़ ऑफ डिफेंस स्टाफ सेनाओं से सम्बन्धित अंतर-सेवाओं जैसे कि बजट, साजो-सामान की खरीद, प्रशिक्षण और मिलिट्री प्लैनिंग के पक्ष से अहम भूमिका निभाएगा।एयर मार्शल मनमोहन बाहुदर ने देश में सिविल सेवाओं में अलग डिफेंस कैडर की वकालत करते हुए कहा कि इस कैडर के अफ़सर राष्ट्रीय सुरक्षा से सम्बन्धित सेवाओं में ही नियुक्त किये जाने चाहिए। उसने कहा कि चीफ़ ऑफ डिफेंस स्टाफ को देश की सुरक्षा से सम्बन्धित नीति समूहों और फ़ौजी कमांड कमेटियों का स्थायी मैंबर बनाया जाना चाहिए और राष्ट्रीय सुरक्षा के साथ अंतर मंत्रालय समूहों की चर्चाओं में भी उसकी भूमिका हो।इस मौके पर लैफ. जनरल सतीश दुआ ने भी श्रोताओं के साथ इस विषय पर साझ डालते हुए कहा कि भारत जिसकी दो सन्देनशील सरहदें हैं और भारत के अपने समेत दोनों पड़ोसी परमाणु शक्ति संपन्न हैं तो ऐसे में हमारे मुल्क के लिए चीफ़ ऑफ डिफेंस स्टाफ की नियुक्ति और भी महत्वपूर्ण हो जाती है। इस मौके पर श्रोताओं के सवालों के जवाब भी माहिरों ने दिए।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

three × 4 =

Most Popular

To Top