जीवन शैली

स्वास्थ्य विभाग ने 4 केमिकल विश्लेषकों को नियुक्ति पत्र सौंपे

चंडीगढ़ – सी.ई.एल. (केमिकल एग्ज़ामीनर लैब) खरड़ के कामकाज में तेज़ी लाने के लिए स्वास्थ्य और परिवार कल्याण विभाग द्वारा बुधवार को 4 केमिकल विश्लेषकों को नियुक्ति पत्र सौंपे गए। स्वास्थ्य विभाग द्वारा इससे पहले इसी हफ़्ते 58 लैब टैक्नीशियनों की भर्ती की गई थी। लैबोरेटरियों में विश्लेषकों की कमी को पूरा करने के लिए सी.ई.एल. की अलग-अलग शाखाओं में तकनीकी और कुशल स्टाफ की भर्ती की जा रही है। उन्होंने कहा कि भारत में ज़्यादातर फोरेंसिक साइंस लैबों में हर महीने प्रति विश्लेषक 25 -30 नमूनों का विश्लेषण किया जाता है। उन्होंने कहा कि तकनीकी स्टाफ की भारी कमी के कारण सी.ई.एल. के विश्लेषक अब 60 नमूने हर महीने ले रहे हैं। इसके साथ ही 150-250 एक्साईज नमूने प्रति विश्लेषक भी लिए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि 3 सीनियर विश्लेषकों को जल्द ही सहायक रसायनिक जाँचकर्ता के तौर पर पदौन्नत किया जायेगा और लैबोरेटरियों में नमूनों की जांच प्रक्रिया में तेज़ी लाने के लिए और विश्लेषकों की भर्ती भी जल्द की जायेगी।उन्होंने आगे कहा कि पंजाब सरकार ने सी.ई.एल. को अपग्रेड करने के लिए कई पहलकदमियां की हैं जिसके अंतर्गत साल 2019-20 में ज़रूरी उपकरणों के लिए 155 लाख रुपए मंज़ूर किये गए हैं और उपकरणों की खरीद प्रक्रिया पहले ही आरंभ की जा चुकी है जिसमें गैस क्रोमैटोग्राफ और मास स्पेक्ट्रोमीटर, यू.वी. स्पैकट्रोफोमीटर, मल्टीस्टेट ऐनालाईजऱ और एक अतिरिक्त पोर्टेबल अल्कोहल मीटर आदि उपरकरण शामिल हैं। उन्होंने आगे कहा कि फ्यूम हुड, प्रभावशाली ट्रीटमेंट प्लांट, माईक्रोस्कोप, ओवन, कोल्ड रूमज़ और लैब के अन्य ज़रूरी उपकरणों के लिए साल 2018-19 में 99.40 लाख रुपए की भी मंज़ूरी दी गई है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

3 + ten =

Most Popular

To Top