पंजाब

नए विकसित किये गए औद्योगिक एस्टेट नाभा में प्लॉटों की अलॉटमैंट शुरू-सुंदर शाम अरोड़ा

चंडीगढ़ – पंजाब सरकार ने नाभा शहर में नये विकसित औद्योगिक एस्टेट में प्रमुख औद्योगिक प्लॉटों की अलॉटमैंट की प्रक्रिया शुरू कर दी है।इसका प्रगटावा करते हुए पंजाब के उद्योग एवं वाणिज्य मंत्री श्री सुन्दर शाम अरोड़ा ने कहा कि क्रिस्चनड इंडस्ट्रियल फोकल प्वाइंट (आई.एफ.पी.), नाभा (नया), सरकार द्वारा सस्ती कीमत पर उद्योग को आधुनिक बुनियादी ढांचे प्रदान करने की वचनबद्धता का नतीजा है। आई.एफ.पी. नाभा (नया) मुख्य तौर पर हलके के इंजीनियरिंग क्षेत्र को प्रोत्साहित करेगा।श्री अरोड़ा ने कहा कि आई.एफ.पी., नाभा (नया) रणनीतक तौर पर नाभा-भवानीगढ़ सडक़ पर स्थित है, जिसकी संपर्क सुविधा राज्य के सभी हिस्सों के साथ है और यह 83.81 एकड़ के क्षेत्र में फैला हुआ है। उन्होंने कहा कि क्षेत्रीय उद्योगों की माँग का जायज़ा लेने के लिए व्यापक मार्केट सर्वेक्षण करने के बाद अलग-अलग आकार के प्लॉटों की योजना बनाई गई है। इसके अनुसार, नयी औद्योगिक जायदाद छोटे, मध्यम, बड़े और मेगा उद्योगों को व्यापकता देने के लिए प्लॉट के आकार का एक योग्य मिश्रण प्रदान करती है। उद्योगपतियों को 5 एकड़ और इससे अधिक, 1-4 एकड़, 2500 वर्ग गज, 1000 वर्ग गज और 500 वर्ग गज तक के औद्योगिक प्लॉट उपलब्ध करवाए जाएंगे।श्रीमती विनी महाजन, अतिरिक्त मुख्य सचिव, उद्योग और वाणिज्य विभाग ने बताया कि स्वै-निर्भर इको-सिस्टम को विकसित करने के लिए फोकल प्वाइंट्स के अंदर 2.50 एकड़ और 1.50 एकड़ के 2 व्यापारिक स्थान रखे गए हैं। महत्वपूर्ण बुनियादी सुविधाएं जैसे कि इलैक्ट्रिकल सब-स्टेशन, वॉटर वर्कस, डिस्पोज़ल वर्क, पब्लिक बिल्डिंगें आदि के लिए अलग प्लॉट रखे गए हैं। ग्रीन बैलट्स और खुले क्षेत्र मुहैया करवाने के लिए भी उचित प्रबंध किये गए हैं।श्रीमती महाजन ने आगे कहा कि सडक़, स्ट्रीट लाईट और सिवरेज ड्रेनेज आदि के बुनियादी ढांचे के विकास कार्य पहले ही मुकम्मल हो चुके हैं। इसके साथ ही, औद्योगिक फोकल प्वाइंट, नाभा (नया) को स्टेट रिअल एस्टेट रेगुलेटरी अथॉरिटी (आर.ई.आर.ए.) के साथ रजिस्ट्रेशन समेत सभी ज़रूरी रेगुलेटरी मंजूरियां मिली हैं। औद्योगिक प्लॉटों की अलॉटमैंट के लिए रिज़र्व कीमत 3800 रुपए प्रति वर्ग गज निर्धारित की गई है।उन्होंने आगे कहा कि औद्योगिक फोकल प्वाइंट, नाभा (नया) में औद्योगिक और व्यापारिक प्लॉटों की अलॉटमैंट ई-नीलामी के ज़रिये की जाऐगी। यह प्रमुख सरकारी स्रोतों की अलॉटमैंट में पूरी पारदर्शिता को यकीनी बनाएगा और उद्योगपतियों को ज़मीन की तेज़ी से अलॉटमैंट को यकीनी बनाएगा। श्रीमती महाजन ने यह भी बताया कि देश-विदेश से उद्योगपतियों ने फोकल प्वाइंट, नाभा (नया) में गहरी रूचि दिखाई है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

nine + nine =

Most Popular

To Top