पंजाब

राजस्व विभाग का एक और लोक-समर्थकी फ़ैसला:

सरकारिया के निर्देशों के बाद तहसीलों में लगाए दस्तावेज़ों की लेखन फीस बारे बोर्ड

चण्डीगढ़ – राज्य के निवासियों को पारदर्शी और भ्रष्टाचार मुक्त सेवाएं प्रदान करने के लिए एक और कदम उठाते हुए पंजाब के राजस्व विभाग ने ज़मीन-जायदाद की रजिस्ट्रेशन के अलावा तहसील स्तर पर प्रयोग में आने वाले दस्तावेज़ों की निर्धारित लेखन फीस के बोर्ड लगा दिए गए हैं जिससे लोगों से कोई फ़ाल्तू फीस न वसूल सके। बताने योग्य है कि पिछले दिनों राजस्व मंत्री श्री सुखबिन्दर सिंह सरकारिया ने विभाग की उच्च-स्तरीय समीक्षा मीटिंग के दौरान तहसीलों में सब-रजिस्ट्रार दफ़्तरों और इकरार नवीसों के दफ़्तरों के बाहर दस्तावेज़ों की लेखन फीस दिखाते बोर्ड लगाने के आदेश दिए थे। विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव-कम -वित्तीय कमिशनर राजस्व श्री एम.पी. सिंह ने बताया कि राजस्व मंत्री के हुक्म के बाद विभाग द्वारा फीस बारे बोर्ड लगा दिए गए हैं। उन्होंने बताया कि तहसीलों में लगाए गए बोर्डों की चैकिंग के लिए विभाग की टीमों द्वारा छापे भी मारे जाएंगे। श्री एम.पी. सिंह ने बताया कि लोगों को परेशानी और लूट से बचाने के लिए यह कदम उठाया गया है क्योंकि कई स्थानों पर लोगों से इन दस्तावेज़ों की निर्धारित फीस से अधिक कीमत वसूले जाने की शिकायतें आईं हैं। अब इन बोर्डों के लग जाने से लोग जागरूक होंगे। तहसीलो में रजिस्ट्रेशन के अलावा और प्रयोग में आने वाले दस्तावेज़ों की फीस बारे जानकारी देते हुए उन्होंने बताया कि सैक्शन-72 के अधीन आवेदन की फीस 100 रुपए, मालियत दर्ज किये दस्तावेज़ जैसे-बैनामा/रहन नामा/सी.डी./पट्टानामा संबंधी पहली कॉपी लिखने की फ ीस 500 रुपए (उक्त दस्तावेज़ की नकल-सेकिंड कॉपी – की फीस 50 रुपए है), ततीमानामा, इकरारनामा, मुख्तारनामा ख़ास की फीस 200 रुपए, मुख्तारनामा आम, वसीयतनामा, गोदनामा की फीस 200 रुपए और 25-1 इंडियन स्टैंप एक्ट 1899 अधीन लिखी दरख़ास्त की फीस 200 रुपए है। अतिरिक्त मुख्य सचिव-कम-वित्तीय कमिशनर राजस्व ने सख़्त लहजे में कहा कि इन दस्तावेज़ों की यदि कहीं भी कोई अधिक कीमत वसूलेगा तो उसके खि़लाफ़ कानूनी कार्यवाही अमल में लाई जायेगी। उन्होंने लोगों से अपील की कि वह इकरार नवीसों के पास से रसीद लें और यदि कोई भी इकरार-नवीस या अन्य अधिकारी या कर्मचारी इन दस्तावेज़ों की निर्धारित फीस से अधिक पैसे मंागता है तो इस बारे शिकायत की जाये।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

5 × 3 =

Most Popular

To Top