पंजाब

मानसिक स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करने के लिए स्टेट मैंटल हेल्थ अथॉरटी गठित-ब्रह्म मोहिंद्रा

चंडीगढ़ – राज्य में मानसिक स्वास्थ्य सेवाओं की प्रणाली की देख-रेख के लिए पंजाब सरकार द्वारा स्टेट मैंटल हेल्थ अथॉरटी की स्थापना की गई है। यह जानकारी स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री श्री ब्रह्म मोहिंद्रा ने ‘विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस’ के अवसर पर दी।
इस संबंधी जानकारी देते हुए श्री ब्रह्म मोहिंद्रा ने कहा कि ‘विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस’ मानसिक स्वास्थ्य से संबंधित मुद्दों के प्रति जागरूकता पैदा करने और मानसिक स्वास्थ्य के समर्थन में यत्नों को संगठित करने के उद्देश्य से मनाया जाता है। इस वर्ष विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस का विषय ‘बदलती दुनिया में नौजवान पीढ़ी और मानसिक स्वास्थ्य’ है।स्वास्थ्य मंत्री ने आगे कहा कि भारत सरकार ने 29 मई, 2018 से मैंटल हैल्थ केयर एक्ट 2017 लागू कर दिया है। इस एक्ट में मानसिक बीमारी वाले व्यक्तियों के अधिकारों और मानसिक स्वास्थ्य के अन्य पहलूओं की जानकारी दी गई है।उन्होंने कहा कि मैंटल हैल्थ केयर एक्ट 2017 की धाराओं के लागू करने की जांच के लिए जल्द ही हरेक जि़ले में जि़ला स्तरीय समीक्षा बोर्ड स्थापित किये जाएंगे। मानसिक स्वास्थ्य संभाल संबंधी प्रकाश डालते श्री ब्रह्म मोहिंद्रा ने कहा कि नौजवान पीढ़ी में विभिन्न तरह के तजुर्बे करने की प्रवृत्ति होती है जिस कारण वह शराब और नशीली दवाओं का सेवन करने लग जाते हैं। यह प्रवृत्ति नौजवानों में मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दों को जन्म दे सकती है। उन्होंने कहा कि छोटे परिवार / पारिवारिक परेशानी, बढ़ते तलाक के मामलों के कारण आम लोगों में मानसिक रोगों की संख्या में बड़े स्तर पर वृद्धि हुई है। उन्होंने कहा कि मानसिक रोगों की रोकथाम की शुरुआत बेहतर समझ से होती है और बीमारी को रोकने में मदद के लिए शुरुआती आयु में मानसिक संतुलन कायम करने के लिए बहुत कुछ किया जा सकता है।उन्होंने कहा कि मानसिक परेशानियों में घिरे नौजवानों की सहायता के लिए परिवार की भूमिका अहम होती है। उन्होंने कहा कि यदि मानसिक स्वास्थ्य कमजोरियों के संकेत जैसे कि काम की कार्यकुशलता में कमी, पढ़ाई में घटिया प्रदर्शन, नींद और भूख के समय में गड़बड़ी, आत्महत्या के ख्याल आदि देखने को मिलने तो पीडि़त व्यक्ति तुरंत सरकारी अस्पतालों में जाकर मानसिक रोगों के माहिरों से इलाज करवाएं। उन्होंने कहा कि जि़ले के हरेक सरकारी अस्पताल में मानसिक रोगों के माहिर मौजूद हैं और जल्द ही राज्य के ग्रामीण क्षेत्रों में मानसिक स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करने के लिए और मानसिक रोगों के माहिरों की भर्ती की जायेगी।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

four + 13 =

Most Popular

To Top